चाइना सैन्य अभ्यास के जरिए Taiwan पर हमले की योजना बना रहा है

    चाइना सैन्य अभ्यास

    चाइना ताइवान को अपना हिस्सा मानता है जबकि ताइवान अपने आप को एक आजाद देश मानता है।चाइना ने ताइवान पर काफी सरे आर्थिक प्रतिबंध भी लगाया है। चाइना और ताइवान में विवाद कई सालों से है लकिन अब चीन ने ताइवान के चारों ओर 2 दिनों के सैन्य युद्ध अभ्यास की शुरुआत करदी है।

    या चाइना सैन्य अभ्यास ताइवान के लिए चेतावनी के रूप में किया जा रहा है।चीनी सेना के प्रवक्ता कर्नल Li Xi ने पहले ही कहा था कि ताइवानियो को इसकी सजा मिलेगी। चाइना सैन्य अभ्यास को इसलिए अंजाम दे रहा है क्योंकि ताइवान में इस साल जनवरी में राष्ट्रपति चुनाव हुए थे जिसमें Lai Ching-te नए राष्ट्रपति बने।

    अपने शपथ ग्रहण समारोह में ताइवान के नए राष्ट्रपति Lai Ching-te ने कहा कि चीन ताइवान को धमकाना बंद करें और ताइवान देश के लोकतंत्र को स्वीकार करे।

    ताइवान के राष्ट्रपति के इस बयान को चीन ने ताइवान के अलगाववादी रवैए के तौर पर लिया है। चाइना सैन्य अभ्यास के जरिए चाइना ताइवान को कठोर सजा देने का ऐलान किया है।

    इसमें ताइवान के मुख्य द्वीप के आसपास ही नहीं बल्कि पहली बार किनमेन मास्तर विकी और डांगन जैसे छोटे द्वीपों के आसपास भी यह युद्ध अभ्यास किया जा रहा है Lai Ching-te के मुताबिक इन सभी द्वीपों पर ताइवान का नियंत्रण है।

    आगे पढ़िए: Bharat से China की दुश्मनी के बावजूद Bharat China का नंबर 1 Trade पार्टनर कैसे

    ताइवान ने इस चाइना सैन्य अभ्यास की निंदा की है और ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि ताइवान ने द्वीप के आसपास के क्षेत्रों में सेना भेज दी है।

    ताइवान ने बार-बार चीन के साथ बातचीत की पेशकश की है लेकिन इसे चीन द्वारा अस्वीकार कर दिया गया है। ताइवान किसी तरह की लड़ाई नहीं चाहता लेकिन अगर उसे मजबूर किया गया तो वह इसके लिए भी तैयार है और ताइवान हर हाल में अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए लड़ेगा।

    ताइवान ने भी २३/मई को अपनी सेना को जुटाया और कहा कि उसे विश्वास है कि वह अपने द्वीप की रक्षा कर सकता है। ताइवान ने एक वीडियो भी जारी किया है जिसमें ताइवान की सेना, नौसेना, वायु सेना और रॉकेट फोर्स के साथ चाइना से हर स्थिति से निपटने के लिए मुस्तैद नजर आ रही है।

    चीन के ऐतराज के बावजूद अमेरिका ताइवान को हथियारों की सप्लाई करता रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइड ने कहा है कि अगर ताइवान पर चीन हमला करता है तो अमेरिका उसके बचाव में उतरेगा।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Translate »
    %d bloggers like this: