जापान की जन्म दर में गिरावट, जापानी चैंपियन ने अपने अंडों को फ्रीज कर लिया

जापान की जन्म दर में गिरावट, जापानी चैंपियन ने अपने अंडों को फ्रीज कर लिया

125 करोड़ की आबादी वाले जापान की कुल प्रजनन दर लगातार 8 वर्षों से तेजी से घट रही है। जापान स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि जन्म दर में गिरावट गंभीर समस्या बनते जारही है। जापान की आबादी अगर इसी तरह गिरती रही तो एक समय ऐसा आएगा जब पूरे देश में बुजुर्ग ही दिखाई देंगे

दुनिया में नंबर 1 धावक (runner) बनने का बड़ा सपना लिये अल्ट्रा मैराथन की जापानी चैंपियन तोमोमी बिटो 33 वर्ष की है।

वह अपने अंडों को फ्रीज करवाने के लिए टोक्यो क्लिनिक गईं थी ताकि वह मां बनने के अपने सपने को जीवित रख सकें। वह माँ बनने से पहले दुनिया की सबसे कठिन मैराथन में सर्वश्रेष्ठ धावक बनना चाहती है।

उन्होंने अपना ध्यान मैराथन में केंद्रित रखने के लिए अपने अंडों को फ्रीज करने का फैसला लिया। कम उम्र में बच्चे को जन्म देने के लिए अंडे को फ्रीज करना एक विकल्प है।

जापान ने 18 से 39 वर्ष की महिलाओं को अंडे फ्रीज करने के लिए $11,900 तक की सब्सिडी की पेशकश शुरू की गई है। अंडा फ्रीज़ कि यह तकनीक जन्म दर में ओर गिरावट को रोक देगी लकिन या समस्या का हल नहीं है।

जापान के अनुसार अधिक विवाहित जोड़ों को अपने जीवन में 2 या 3 बच्चे पैदा करने पर विचार करने की आवश्यकता है, विवाहित जोड़े को गर्भावस्था की योजना बनाना चाहिए।

जापान में 55% तक एकल पुरुषों और महिलाओं को अपने किशोरावस्था में बच्चा पैदा करने की कोई इच्छा नहीं होती और अधिक महिलाओं पर घरेलू काम का बोझ होता है, कई लोग बच्चों का खर्च उठाने के लिए संघर्ष करते हैं।

आगे पढ़िए: भारत और रूस: डॉलर को अनदेखा कर रुपये और रूबल डील से मजबूत हो रही है करेंसी

2023 पिछले साल सरकार ने बच्चे पैदा करने वाले परिवारों को समर्थन के लिए कई कदम उठाए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
%d bloggers like this: