Ebrahim Raisi को अंतिम विदाई देने पहुंचे आतंकी संगठन Hamas और Hezbollah गुस्से में Israel

Ebrahim Raisi को अंतिम विदाई देने पहुंचे आतंकी संगठन Hamas और Hezbollah

22 /may/2024 को ईरान में इब्राहिम रईसी की अंतिम विदाई हुई। ईरानी झंडे में इब्राहिम रईसी के ताबूत को लपेटा गया है उसके बाहर उनकी तस्वीर लगाई गई और ताबूत को आखिरी दर्शन के लिए लोगों के सामने रखा गया तो वही हमास के टॉप लीडर इस्माइल हानिया को भी इब्राहिम रईसी की अंतिम विदाई में देखा गया है।

यह बात हमेशा से दुनिया के सामने थी कि पर्दे के पीछे से ईरान हमास का समर्थन करता है । इस्माइल हानिया ईरान पहुंचकर चेहरे पर मुस्कान लेकर लोगों से मिलते-जुलते रहा और लोगों के बीच बैठ कर बातें की।

इस्माइल हानिया ने ईरान के कई दिग्गज नेता जैसे ईरान के उपराष्ट्रपति Mohammad Mokhber और सैन्य प्रमुख General Mohammad Bagheri मुलाकात की। खुले तौर पर जिस तरह से इस्माइल हानिया ईरान पहुंचा है उससे पता चलता है की ईरान और हमास के रिलेशन कितने मजबूत है।

हेज़बोल्लाह के भी टॉप लीडर ने इब्राहिम रईसी को अंतिम विदाई दी। रईसी की मौत को कुछ देश इसे हादसा मान रहे तो कुछ देश इसे साजिश मान रहे है लकिन हेज़बोल्लाह जैसे आतंकी संगठन बिना जाँच पड़ताल के रईसी की मौत को इजराइल से जोड कर इजराइल पर ताबड़ तोड़ मिसाइल से हमला कर रहे है।

Hamas और Hezbollah दोनों आतंकी संगठन इजराइल को अपना दुसमन मानते है और कुछ महीनो से इजराइल पर राकेट मिसाइल से हमले करते आ रहे है लकिन Hamas और Hezbollah के जवाब में इजराइल की सेना भी Hamas और Hezbollah पर जवाबी कारवाही करते है।

इस्माइल हानिया उसी हमास संगठन का लीडर है जिसने हजारों निर्दोष लोगों को मारा हैं। 29 जनवरी 1962 को गाजा पट्टी के शरणार्थी शिविर में पैदा हुआ हानिया छोटी उम्र के दौरान ही हमास से जुड़ गया था।

और पढ़ें Iran के राष्ट्रपति Ebrahim Raisi की निधन होने के बाद iran का अगला राष्ट्रपति कौन

साल 2006 में हानिया फिलिस्तीन का प्रधानमंत्री बना कई साल पहले वह गाजा पट्टी से भागकर कतर चला गया था हानिया फिलहाल कतर में ही रहता है।

रईसी को अंतिम विदाई देने कई देशों के दिग्गज ईरान पहुंच रहे हैं तो वहीं पाकिस्तान ,रूस, चाइना हर जगह से लोग ईरान जा रहे है। भारत के उपराष्ट्रपति जगदीप धनकड़ भी ईरान पहुंच गए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
%d bloggers like this: